April 2, 2007

इन चरसी लौंडे लौंडियों का क्‍या करे देश -फोटो



पुणे में पिछले दिनों हुई रेव पार्टी के कुछ फोटो एक मित्र ने मुझे भेजे। समझ नहीं आ रहा कि क्‍या लिखूं देश के इन चरसी कर्णधारों के बारे में। इसलिए शीर्षक में ही सब कुछ कहने का प्रयास किया है।



































































12 comments:

आशीष said...

बजरंगदल, शिवसेना या प्रवीण तोगड़ीया से पुछीये की इनका क्या किया जा सकता है।
हम तो सिर्फ सर पीट सकते है !

Shrish said...

कमल भाई ये फोटो दिखाने के लिए धन्यवाद! [url=http://www.akshargram.com/paricharcha/index.php]परिचर्चा फोरम[/url] में इस विषय पर [url=http://www.akshargram.com/paricharcha/viewtopic.php?id=815]बहस गर्म है[/url]। इन चित्रों से उस में नया मोड़ आ गया।

आप भी आ जाइए, अगर अब तक परिचर्चा के सदस्य नहीं हैं तो जल्द बनिए और अपने विचार उपरोक्त थ्रेड पर रखिए।

@आशीष,
>> हम तो सिर्फ सर पीट सकते है !
किस बात पर पार्टी में नहीं थे इसलिए? :)

अनूप शुक्ला said...

देख कर समझ नहीं आ रहा क्या कहें!

ANURAAG MUSKAAN said...

कमल भाई... आपकी दुविधा है कि इन चरसी लौंडे-लौंडियों का क्या करें? तो सबसे पहले तो सही सलाह देना चाहूंगा कि हम और आप इनका कुछ करने का शौक न पालें तो बेहतर हैं क्योंकि यह जो कर रहे हैं इसके बाद हमारे और आपके करने हेतु वैसे भी कुछ बचता ही कहां हैं... jokes apart... इनका कुछ किए जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि ये बेचारे तो खुद अपने ही हाथों अपने पतन की ओर हैं...

संजय बेंगाणी said...

कुछ नहीं करना. देश दुनियाँ इनके भरोसे नहीं चलते. ये तो खुद ही अपाहीज है, बीना कश के दो कदम न चल सके.

ashish maharishi said...

Aji sahab inhe bhi maze kar lene dijiye..akhir Hind ko inhi par naaz hain.!! aur aj india is shining!!

Punit Pandey said...

bharat ka pashchimikaran ho raha hai. vaishvikaran, internet aur videshi media ke prabhav ke chalte ise rok pana aasan nahin hai. haanlanki togadiya aur bajrang dal wala dabav ka tarika mujhe to sahi nahin maloom padta. hamen apne desh aur sanskriti ko sahi taraha se samjhne ki zaroorat hai.

Shrish said...

ऊपर वाली टिप्पणी में गलती से HTML की जगह BBCode लगा दिया।

परिचर्चा वाले थ्रेड का लिंक ये रहा

Anonymous said...

....Bahut achchha kiya jo kuch likha nahin.'Kuchh na' kikhate huye bhi 'sab kuch' sampreshit(communicate)kar dena ek maharathi hi janta hai.kyonki apne na likhte huye bhi anekon ko udvelit karne ka safal prayas kiya hai.

Ye rev party wale samaj ko khokhla kar rahen hain.Apke dwara preshit chitron ne kai sarthak prashn samne rakhen hain jo samridhdhi ke kale chehare ko pratibimbit karte hain.Inko andekha nahin kiya ja sakta hai.

Asia main drugs ke do 'swarnim trikon'(golden triangle)hain
ek hai 'Laos- Mynmar- Thailand'
dusara hai 'Afganisthan- Pakisthan- India'.WO amir tabka jo is trikon se bharat ko bahar nikal sakta hai wahi iske prati logon main akarshan jago raha hai.
Afim ka vyasni apna ghar bhi bech dalta hai. Afimachi uttar kaaalin mughalon (later mogul)ne veshyaon aur hijado ke liye desh ko bech dala tha.Kintu in rev parties ke bhagidaron ki itni haisiyat nahin ki desh ko turant bech dalen,Kintu IT aur vittiya kshetron main karyarat nayi pidi aur agli pidi ko apne hi ghar va desh ke virrudha modne ke liye kafi hai.

Nahin bhulna chahiye ki China ne do Afim yudhdha (Opium War) lade hain,United States of America ne central aur latin America ko maatra drugs ke dum par hi apne kabje main kar rakha hai.

YE bhale hi bina kash do kadam na chal saken, jaisa ki sanjay bhai ne kaha hai, kintu 'apahijon' ki fauz khadi karne main ye saksham hain. Desh ko in naye mugalon ki failti fauz se bachane ki disha main apki yeh pahl safal ho aisi ishwar se prathana hai.

Khoji patrakarita ke liye Bahut bahut dhanyavad.
K. kartikey,
Bhopal, MP, India

PD said...

मैं आपको एक सूचना देना चाहता हूं.. मुझे ये तो पत नहीं की ये फोटो किस पार्टी के हैं, पर मुझे ये फोटो बहुत पहले शायद 2002-03 मे मेल के द्वारा भेजा गया था.. शीर्षक सही-सही तो याद नहीं है पर "Pics of NRIs" जैसा ही कुछ था..

सच्चाई का मुझे पता नहीं, वैसे भी इस तरह के मेल की सच्चाई पर मैं ज्यादा भरोसा नहीं करता हूं..

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
ashish said...

Sir inka kuchh nahi kiya ja sakata kayo ki in rokne ke liye india me koi ruls nahi hai jo hai bhi nam matr ke...........hamari sharakar ko inhi logo ko panah de rahi hai kayo yehi to varith nagrik kahlate hai..........chhodiye sir ham khud ko badle to samaj apne aap badal jayega ......