March 27, 2007

मिस्र में ब्‍लॉगर को जेल

मिस्र में एक अदालत ने इंटरनेट के जरिए ब्‍लॉग लिखकर इस्‍लाम और राष्‍ट्रपति की बेइज्‍जती करने के आरोप में अब्‍दुल करीम सुलेमान नामक व्‍यक्ति को चार साल की जेल की सजा सुनाई है। पूरी खबर....बीबीसी की हिंदी वेबसाइट पर
http://www.bbc.co.uk/hindi/news/story/2007/02/070222_egypt_blogger.shtml

यानी अब ब्‍लॉग लिखते समय ध्‍यान रखिए मान और मर्यादाओं का अन्‍यथा मिस्र के बाद अब दूसरे देशों खासकर भारत में भी उल्‍टे पुल्‍टे लेखन के लिए हो सकती है सजा..

4 comments:

संजय बेंगाणी said...

भाई, भारत और मिस्र में बुनियादी फर्क है, अतः खुब लिखो, जम कर लिखो.

Raman Kaul said...

कमल जी, संजय सही कह रहे हैं। देश का नाम मिस्र लिखें।

dhurvirodhi said...

कमल जी, हमारे यहां तो अदालते चेहरा देख कर फैसला देतीं है, इसलिये
सरकार के खिलाफ न लिखिये
पैसे वाले के खिलाफ न लिखिये
न्याय व्यवस्था के खिलाफ न लिखिये.

बाकी हम और आप जैसे आम आदमी एक दूसरे का क्या बिगाड़ सकते हैं?

sarjak said...

प्रिय कमल जी,

मैं भी भाई धुरविरोधी की बात से सहमत हूं कि हमारी अदालते चेहरा (साथ ही बैंक बैलेंस) देखकर फैसला देती हैं। लेकिन मैं फिर भी यह कहना चाहूंगा कि आप खूब लिखिए, समाज की बुराइयों को जितना उजागर कर सकते हैं कीजिए, क्‍योंकि हम हिंदी चिटृठाकारों को अभिव्‍यक्ति की स्‍वतंत्रता के लिए सभी खतरे उठाने होंगे और एकजुट होकर इनका सामना करना होगा। फिलहाल किसी भी सार्थक विमर्श के लिए मैं निजी तौर पर आपके साथ हूं। क्‍यों धुरविरोधी जी आपका क्‍या कहना है।

हां, एक और सुझाव हम भविष्‍य की ऐसी किसी भी आशंका से निपटने के लिए एक समूह भी तैयार कर सकते हैं।